0

क्या हिसार में भाजपा के लोगों ने आप की टोपी पहनकर प्रदर्शन किया ?

Share

आम आदमी पार्टी की हिसार के पुराना राजकीय कॉलेज मैदान में हुई रैली पर सवाल खड़े होने लगे हैं. आरोप है कि बहादुरगढ़ से 350 रुपए दिहाड़ी देकर रैली में भीड़ बढ़ाने के लिए लोगों को लाया गया था. रैली के बाद ने पैसा नहीं मिलने पर इन लोगों ने हंगामा कर दिया. दूसरी ओर, आम आदमी पार्टी का कहना है कि यह आप को बदनाम करने की साजिश है और भाजपा के लोगों ने आप की टोपी पहनकर प्रदर्शन किया.
Image result for aam aadmi party hisar rally
दो बसों में आए लोगों ने रैली में दिहाड़ी पर लाए जाने की बात कहते हुए पैसे नहीं देने का आरोप लगाया. रैली समाप्‍त होने के बाद इन लोगों ने नारेबाजी की और पैसा उसी समय देने की मांग की. हंगामा होने पर वहां मौजूद एक नेता भाग गया. उस दौरान बड़ी मुश्किल से बस ड्राइवर व पार्टी के लोगों ने उन्हें समझाया और बहादुरगढ़ पहुंचते ही पैसा देने का आश्वासन दिया. इसके बाद ये लोग बसों में सवार होकर रवाना हुए.
गौरतलब है कि रविवार को आम आदमी पार्टी ने हिसार में प्रदेश स्तरीय रैली आयोजित की थी.रैली को दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने संबोधि‍त किया. रैली के लिए पार्टी कार्यकर्ताओं व पदाधिकारियों की तरफ से अलग-अलग जगह से भीड़ जुटाने के लिए ड्यूटी लगाई गई थी. रैली खत्म होने के बाद शाम पांच बजे ओल्ड कोर्ट कॉम्प्लेक्स में हंगामा हो गया.

रैली में दो बसों में सवार हो कर आए लोगों ने पैसा नहीं मिलने पर हंगामा कर दिया.जो आप नेता उन्हें लाया उससे बस में ही पैसा देने की मांग ये लोग करने लगे. इस पर आसपास के लोग भी एकत्रित हो गए.लोगों का हंगामा देख उक्‍त आप नेता वहां से खिसक गया.उसी दौरान लोगों ने नारेबाजी शुरू कर दी.हंगामे के दौरान लोग अपना पैसा देने की मांग उठा रहे थे.
इस मामले में हरियाणा आप के प्रदेशाध्यक्ष नवीन सिंह का कहना है कि,”हिसार में इतनी बड़ी रैली से भाजपा सहित अन्य विपक्षी दल बौखला गए हैं. आज जो मजदूरों को पैसे देकर रैली में लाने की बात की जा रही है दरअसल ये भाजपा के आदमी थे जिन्होंने आम आदमी पार्टी की टोपी पहनकर प्रदर्शन किया. हमारी इतनी ताक़त  नहीं है कि हम पैसे देकर किसी को लाएं”
वहीं भाजपा विधायक कमल गुप्ता ने कहा कि “यह वाकया आम आदमी पार्टी की रैली की पोल खोलता है. अभी पार्टी की हरियाणा में शुरुआत भी नहीं हुई है, इससे पहले ही रैली में दिल्ली के नजदीक से लोग लाने पड़ रहे हैं. ये लोग आगे किस तरह काम करेंगे यह देखने वाली बात है.”