November 28, 2021

देश भर में वैक्सीन कॉकटेल को लेकर चर्चाएं तेज हो चली हैं। वैज्ञानिकों और डॉक्टरों ने यह बात कही है कि दो अलग-अलग वैक्सीन लगने से कोई खतरा नहीं है। हालांकि अभी इस मामले में किसी तरह की कोई गहन स्टडी नहीं हुई है। लेकिन, वैक्सीन कॉकटेल को लेकर सरीम इंस्टीट्यूट के चेयरमेन “डॉ. सायरस पूनावाला” (Dr.Cyrus Poonawalla) बड़ा बयान दिया है। उन्होंने बीते शु्क्रवार कहा कि वह दो अलग वैक्सीन का मिश्रण मरीजों को देने के पक्ष में नहीं हैं। सिर्फ यहीं नहीं, उन्होंने अपने इस बयान में कोवैक्सीन (Covaxin) और कोविडशील्ड (Covishield)  के मिश्रण को कड़े शब्दों में गलत बताया था।

आप बेशक मेरा नाम लेकर लिख दें पर यह गलत हैः सायरस पूनावाला

सायरस पूनावाला ने तिलक महाराष्ट्र विद्यापीठ, पूने में The Economic Times के हवाले से कहा था कि “आप चाहें तो मुझे कोट भी कर सकते हैं, पर मुझे लगता है कि दो वैक्सीनों को मिलाना बहुत गलत है। उन्होंने आगे कहा कि दोनों के कॉकटेल को लेकर अभी तक कोई मेडिकल ट्रायल सामने नहीं आए हैं। 

दो वैक्सीनों के कॉकटेल रिसर्च को मिली है मंजूरी 

 द ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया ने बीते 11 अगस्त को दोनों (कोवैक्सीन और कोविडशील्ड)  वैक्सीन के एक-एक डोज को लगा कर मरीजों पर होने वाले प्रभावों के अध्ययन को मंजूरी दे दी गई है। इस अध्ययन से दो वैक्सीनों के मिलाकर यह देखा जाएगा कि यह कोविड-19 से रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में कितनी कारगर और सुरक्षित साबित होती हैं।  

आईसीएमआर ने 98 लोगों पर किया था अध्ययन

आईसीएमआर ने एक अध्ययन में कहा था कि दोनों टीकों की एक-एक खुराक लगवाकर कोरोना से लड़ने वाली रोग प्रतिरोधक क्षमता बेहतर हो जाती है। हालांकि आईसीएमआर के इस अध्ययन में केवल 98 लोग ही शामिल हुए थे। जिनमें से 18 लोग ऐसे थे, जिन्हें पहली खुराक कोविडशील्ड की लगी थी और अनजाने में दूसरी खुराक कोवैक्सीन की दे दी गई थी। यही कारण है कि इस अध्यय़न को लेकर कोई भी दावा करना जल्दबाजी ही होगी। 

ब्लैम गेम होने का है खतरा 

सायरस पूनावाला साफ शब्दों में कहते हैं कि अगर दो वैक्सीन को मिलाने पर किसी के साथ अनहोनी हो जाती है, तो ब्लैम गेम हो सकता है। मतलब यह है कि ‘अगर कॉकटेल टीके लगाये जाते हैं और परिणाम अच्छे नहीं आए। तो एसआईआई ( सीरम इंस्टीट्यूट ) कह सकता है कि दूसरा टीका सही नहीं था।  इसी तरह दूसरी कंपनी कह सकती है कि आपने सीरम के टीके को मिला दिया इसलिए अपेक्षित परिणाम नहीं सामने नहीं आए’’

About Author

Heena Sen