साहित्य

0
More

‘प्रेम नाम है मेरा, प्रेम चोपड़ा’ – बेटी की कलम से पिता की आत्मकथा

  • January 3, 2020

‘प्रेम नाम है मेरा, प्रेम चोपड़ा’, इस किताब से मेरा भी याराना है, चंद महीनों का ही सही लेकिन अब साथ जीवन भर का है। सितंबर...

0
More

क्या आपने पढ़ा है खुशवंत सिंह की "ट्रेन टू पाकिस्तान"

  • February 3, 2018

देश के जाने माने लेखकों एवं पत्रकारों में अपना अलग स्थान बनाने वाले जिंदादिल इंसान के रूप में विख्यात खुशवंत सिंह ने बंटवारे जैसे बेहद गंभीर...

0
More

क्या आपने खुशवंत सिंह का उपान्यास "सनसेट क्लब पढ़ा है ?

  • December 31, 2017

“सनसेट क्लब” राजपाल प्रकाशन से आया ये उपन्यास उन तीन बूढें दोस्तों की दोस्तों की दास्तां जो हर शाम में वहां आतें थे और फिन भर...