October 28, 2021
विशेष

विशेष – मध्यप्रदेश में हर दिन 15 महिलायें होती हैं रेप का शिकार

विशेष – मध्यप्रदेश में हर दिन 15 महिलायें होती हैं रेप का शिकार

मध्यप्रदेश – जिसने पिछले कुछ वर्षों से देश की ‘बलात्कार राजधानी’ होने की शर्मनाक पहचान पाई है, एनसीआरबी डेटा के मुताबिक पंजीकृत मामलों में ज़्यादातर शिकायतें वास्तविक हैं। यह जानकारी एमपी पुलिस के डेटा के मुताबिक़ है।
रिपोर्ट में कहा गया है कि 2017 में पुलिस के पास पंजीकृत 5,310 बलात्कार के मामलों में से  162 ऐसे मामले सामने आए थे। जिनमें शिकायत दर्ज कराई जाती है, जबकि शिकायत गलत होती है। पुलिस अधिकारियों ने कहा कि ऐसे मामलों में शिकायतकर्ता को बुक किया जा सकता है।
पिछले कुछ वर्षों में झूठी रिपोर्टों की संख्या में वृद्धि हुई है, लेकिन बलात्कार के मामलों की कुल संख्या की तुलना में यह संख्या अभी भी छोटी है। 2016 में, कुल 4,882 मामलों में से 31 में झूठी रिपोर्ट दायर की गई थी, जबकि 2015 में राज्य में पंजीकृत कुल 4,391 बलात्कार के मामलों के मुकाबले कम से कम 36 मामले झूठे पाए गए थे।
नेशनल क्राइम रिकॉर्ड्स ब्यूरो की रिपोर्ट कुछ महीनों के बाद जारी की जाएगी, लेकिन वर्ष 2017 के लिए एमपी पुलिस द्वारा संकलित आंकड़े एक गंभीर तस्वीर को स्वीकार करते हैं। आंकड़ों के मुताबिक, 2017 में राज्य में कम से कम 15 महिलाओं से रोज़ बलात्कार किया गया।
एमपी में बलात्कार के मामलों की औसत संख्या 13 से बढ़कर 2017 में 15 हो गई थी। 2016 में, एमपी में बलात्कार के कुल 4,882 मामले दर्ज किए गए, जबकि 2015 में 4,391 मामले दर्ज किये गए थे, पिछले कुछ वर्षों से ऐसे मामलों में एक स्थिर वृद्धि दिखाई देती है।
राज्य में बलात्कार के मामलों की उच्च संख्या पर, सरकार हमेशा यह तर्क पेश करती है कि अन्य राज्यों की तुलना में एमपी में शिकायतों का पंजीकरण अधिक है। सभी शिकायतें पंजीकृत और उनकी जांच की जाती हैं।

नोट : यह रिपोर्ट मूलतः अंग्रेज़ी भाषा में टाईम्स ऑफ़ इण्डिया में छपी थी. हम उस रिपोर्ट का हिंदी अनुवाद कर आपके लिए प्रस्तुत कर रहे हैं.
About Author

Team TH

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *