January 25, 2022
उत्तरप्रदेश

UP में UPTET की परीक्षा रद्द, एग्जाम से पहले लीक हुआ क्वेश्चन पेपर

UP में UPTET की परीक्षा रद्द, एग्जाम से पहले लीक हुआ क्वेश्चन पेपर

देश का सबसे आबादी वाला राज्य उत्तर प्रदेश फिर चर्चा में हैं। इस बार चुनावों को लेकर या किसी नेता की बयानबाजी को लेकर नहीं, बल्कि UP TET का एग्जाम लीक होने को लेकर। मालूम हो, 28 नवबंर रविवार को UPTET का एग्जाम होना था, लेकिन परीक्षा केंद पर पहुंचकर एग्जाम देने आए छात्रों को पता चला कि एग्जाम तो केंसिल ही हो गया। और केंसिल होने का कारण ये है कि, एग्जाम से पहले ही पेपर व्हाट्सएप पर लीक हो गया है।

इस बीच एग्जामिनेशन होल से बाहर निकलते स्टूडेंट्स के चेहरे मुरझाए हुए थे, वहीं कुछ स्टूडेंट्स रोते हुए नज़र आए। बता दें कि, UPTET का एग्जाम दो शिफ़्ट में होना तय हुआ था। एक सुबह साढ़े 10 से 12 और दूसरा 2 से 5। वहीं एग्जाम देने आए स्टूडेंट्स की संख्या 21 लाख है।


पेपर केंसिल होने के बाद सोशल मीडिया पर शेयर किए जा रहे मिम्स :

UPTET की परीक्षा केंसिल होने के बाद सोशल मीडिया पर #UPTET ट्रेंड करने लगा। ट्विटर पर लोग मिम्स शेयर करने लगे, यही नहीं कुछ ने तो इसे यूपी सरकार की नाकामी बता डाला। हालांकि, इस मुद्दे पर विपक्षी नेता प्रियंका गांधी और अखिलेश यादव ने भी ट्वीट कर निशाना साधा,

ट्विटर पर पेपर कैंसिलेशन को लेकर शेयर किए गए मिम्स….


वहीं सोशल मीडिया पर हर्ष देव नाम के यूज़र ने इसे नीति आयोग की रिपोर्ट से जोड़ते हुए लिखा…. “नीति आयोग की रिपोर्ट के मुताबिक, यूपी इतना गरीब है कि उनको #UPTET का पेपर बेचना पड़ रहा है…।”



दूसरी और #UPTET के पेपर लीक होने पर प्रियंका गांधी और अखिलेश यादव ने इसे यूपी सरकार में हो रहा भ्रष्टाचार कहा…

प्रियंका गांधी ने ट्वीट में लिखा, 

“भर्तियों में भ्रष्टाचार, पेपर आउट ही भाजपा सरकार की पहचान बन चुका है। आज यूपी टेट का पेपर आउट होने की वजह से लाखों युवाओं की मेहनत पर पानी फिर गया।

उन्होंने आगे लिखा “हर बार पेपर आउट होने पर @myogiadityanath जी की सरकार ने भ्रष्टाचार में शामिल बड़ी मछलियों को बचाया है, इसलिए भ्रष्टाचार चरम पर है।

वहीं अखिलेश यादव ने लिखा,

“UPTET 2021 की परीक्षा का पेपर लीक हिने का वजह से रद्द होने बीसों लाख बेरोजगार अभियर्थियों के भविष्य के साथ खिलवाड़ है।”


एक महीने के भीतर दुबारा आयोजित होगी परीक्षा :

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, एग्जाम केंसिल होने से स्टूडेंट्स निराश हैं। वहीं सरकार का कहना है कि अगले एक महीने में सरकार इस एग्जाम को दुबारा आयोजित करवाएगी। वहीं, परीक्षा में दुबारा शामिल होने वाले स्टूडेंट्स को दुबारा फीस नहीं देनी होगी।

पेपर लीक को लेकर STF ने की छापेमारी :

पेपर लीक के मामले में स्पेशल टास्क फोर्स ने कई क्षेत्रों में छापेमारी की और 23 आरोपियों को गिरफ़्तार किया। सभी को एग्जाम से पहले व्हाट्सएप के माध्यम से पेपर लीक करने के आरोप में गिरफ़्तार किया गया है। इसमें प्रयागराज से 13, अयोध्या से 2, कौशाम्बी से 1, शामली से 3, लखनऊ से 4 और मेरठ से 3 आरोपी गिरफ्तार किए गए हैं।



About Author

Sushma Tomar