जो झूठ पहले छिप कर बोला जाता था, अब खुले आम बोला जा रहा है

जो झूठ पहले छिप कर बोला जाता था, अब खुले आम बोला जा रहा है

2014 के बाद देश की राजनीति में सबसे महत्वपूर्ण परिवर्तन यह आया है कि झूठ या फर्जीवाड़ा, जो पहले लुकछिप पर कुछ अपराध बोध के साथ बोला या किया जाता था, वह अब आम होने लगा है। खुलकर होने लगा है। राजनीति में सत्य और असत्य का भेद वैसे भी कभी नहीं रहा है और […]

Read More