November 30, 2021
अंतर्राष्ट्रीय

अफगानिस्तान से अमेरिका के 19 साल से ज्यादा लंबे युद्ध हुआ अंत

अफगानिस्तान से अमेरिका के 19 साल से ज्यादा लंबे युद्ध हुआ अंत
  • 30 अगस्त को पूरी तरह से अफगानिस्तान से लौट गई अमेरिकी सेना
  • सेना के अंतिम तीन विमानों ने आधी रात भरी उड़ान

अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के बाद पूरी दुनिया में हड़कंप मच गया है। सभी देश अपने लोगों को अफगानिस्तान से निकालने के तरीके तलाश रहे हैं। तालिबान के काबुल पर हमला करने के बाद अमेरिका ने काबुल एयरपोर्ट को अपने कब्जे में ले लिया था। मगर 30 अगस्त की आधी रात को अमेरिका अपने पूरे दल – बल के साथ अफगानिस्तान को हमेशा के लिए छोड़ गया।

30 अगस्त की मध्य रात्रि को अमेरिका के आखरी तीन सी-17 विमानों ने उड़ान भरी। जिसके साथ अफगानिस्तान में अमेरिका के 19 साल से ज्यादा समय की मौजूदगी और युद्ध खेल का अंत हो गया। अमेरिका के जाने के बाद तालिबानी आतंकियों ने काबुल के हामिद करजई इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर हवाई फायरिंग करके जश्न मनाया।

समाचार एजेंसियों ने ट्विटर पर दी जानकारी

अमेरिकी सैनिक विमान के आखरी उड़ान के साथ-साथ अफगानिस्तान में अमेरिकी सैन्य अभियान का भी अंत हो गया। न्यूजवीक के संपादक नावीद जमाली ने ट्वीट करके बताया कि, “युद्ध का अंत हो गया। अंतिम विमान ने उड़ान भर ली है। आरटी के मुराद गजदिएव ने अपने ट्वीट में लिखा, “लड़ाई 19 साल 10 महीने और 25 दिन तक चली। अब अमेरिका अफगानिस्तान से वापस चला गया है।”

समाचार एजेंसी रॉयटर्स की एक रिपोर्ट के अनुसार तालिबान के प्रवक्ता कारी यूसुफ ने अमेरिका के काबुल छोड़ने के बाद बयान दिया। उन्होंने कहा,”अमेरिका के आखरी सैनिक ने काबुल छोड़ दिया है और हमारी देश को पूरी तरह आजादी मिल गई है।”

तालिबानियों ने मनाया जश्न

काबुल के हामिद करजई इंटरनेशनल एयरपोर्ट से अमेरिकी हवाई जहाजों के उड़ान भरने के बाद तालिबानियों ने हवाई फायरिंग करके जश्न मनाया। तालिबानियों ने काबुल की सड़कों से आतिशबाजी भी की। अमेरिकी सैनिकों के जाने के बाद तालिबान के फ़तेह ज़वाक इकाई के लड़ाके उनके छोड़े गए उपकरणों और दूसरी चीज़ों का निरीक्षण करते हुए नज़र आए।

अमेरिका के जाने से अफगानिस्तान अब पूरी तरह से तालिबान के कब्जे में आ गया है। आखरी विमान की उड़ान भरते ही अमेरिका ने घोषणा की है कि अफगानिस्तान में उसका मिशन अब खत्म हो गाया है। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने यह पहले ही ऐलान कर दिया था कि 31 अगस्त तक हम अपनी सेना को वापस बुला लेंगे।

About Author

Ankit Swetav